इस बुजुर्ग की कहानी आपको रोने पर मजबूर कर देगी। news hank

कोरोना से किसी तरह ठीक होकर 93 साल के बुजुर्ग जॉर्डन एंड्रयू को छुट्टी मिली तो बिल भुगतान कर पैदल चलने जाने लगे तो अस्पताल के कर्मचारियों 13 हजार रुपए और मांगे किसी कारणवश बिल में यह राशि जोड़ना बाकी रह गया था।

बुजुर्ग के पूछने पर उसे बताया गया कि यह एक दिन का ऑक्सीजन बिल है। ये सुनकर वह रोने लगा।

बुजुर्ग आदमी को रोता देखकर डॉक्टर ने कहा आप रोइये मत अगर आपके पास इतनी राशि नहीं है तो कोई बात नहीं हम इसे माफ कर देते हैं।

तब उस 93 साल के बुजुर्ग ने कुछ ऐसा कहा जिसे सुनकर पूरा स्टाफ रो पड़ा।

उन्होंने कहा - मैं इस बिल पर नहीं रो रहा हूं, मेरे लिए इस बिल का भुगतान करना मुश्किल नहीं है। मैं इसे आसानी से दे सकता हूँ ।

मैं इसलिए रो रहा हूँ क्योंकि मैं 93 साल से सांस ले रहा हूँ। और मैंने आज तक इन सांसों के लिए एक पैसा नहीं दिया। अगर एक दिन सांस लेने की कीमत 13 हजार है। तो आप समझ सकते हैं कि में अब तक प्रकृति का कितना कर्जदार हूँ।

मैंने ऑक्सीजन के इस अनमोल उपहार के लिए हमारी प्रकृति को कभी धन्यवाद नहीं दिया।

ये दुनिया कुदरत का खेल है दोस्तो हमारा शरीर और हमारी हर सांस अमूल्य है। हम प्रकृति को बिना नुकसान पहुंचाए साफ रख कर धन्यवाद कर सकते हैं।

पेड़ों की देखभाल करें ताकि सांस लेना आसान हो



Tags

Top Post Ad

Below Post Ad