वैज्ञानिकों ने बहुत बड़े ब्लैक होल की जांच करने का एक नया तरीका खोजा है जिससे उसके द्रव्यमान और घूमने जैसे गुणों का पता या लगाया कर तारों को भेजने के बारे में निरीक्षण किया जा सके उन्होंने एक मॉडल तैयार किया है 

जिससे ब्लैक होल के द्रव्यमान और घूमने के बारे में जानकारी हासिल कर यह अनुमान लगाया जा सकता है कि कुछ ब्लैक होल बड़ी आकाशगंगा के केंद्र में पाए जाने वाले कुछ गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र में खगोलीय पिंडों के आस पास आने पर तारों को कैसे भेजते हैं

अधिकांश ब्लैक होल अलग-थलग होते हैं और उनका अध्ययन करना असंभव होता है खगोल वेद इन ब्लैक होल के पास के सितारों और गैस पर प्रभावों को देखकर उनका अध्ययन करते हैं

जब ब्लैक बोर्ड का ज्वारीय गुरुत्वाकर्षण तारों के अपने गुरुत्वाकर्षण से अधिक हो जाता है तो सितारे विघटित हो जाते हैं और इस घटना को जो आर्य विघटन घटना कहा जाता है