गठिया, लकवा और गुर्दे के दर्द के लिए अचूक है, ये पौधा, उल्टा लपा | benefits of apamarga

Benefits of Apamarga Plant

lapa ke fayade

इस पौधे को चिरचिटे के नाम से जानते हैं, वहीं कुछ जगह पर लोग चिरचिटा को अपामार्ग (apamarga plant) लटजीरा, चिचड़ा, चिरचिरा,  उल्टा लपा भी कहते हैं। इस पौधे में एक बाली निकलती है जिसमे छोटे छोटे कांटे होते हैं। यदि इसके पास से निकलें तो ये कांटे कपड़ों में चिपक जाते हैं, बैसे तो चिरचिटे के कई गुण हैं लईकिन यहाँ आपको इसके कुछ जरूरी गुण बता रहे हैं।



चलिए जानते है इसके औषधीय गुणों के बारे में


पेट के लिए है फायदेमंद उल्टा लपा

चिरचिटे ( उल्टा लपा ) के 5 से 10 पत्ते धोकर शाम को भोजन के बाद सोने से पहले चबाकर खाने से आपको कब्ज की समस्या से राहत मिलती है। यदि आपको पेट सुबह साफ नहीं होता तो आप इनके पत्तो को सेवन कर सकते हैं।

परहेज - एक बात याद रखिये चिरचिटे ( उल्टा लपा ) के पत्तों को सुबह नहीं खाना चाहिए इससे भूख कम हो जाती है।



गठिया में है लाभकारी उल्टा लपा

गलत खान-पान की बजह से गठिया की बीमारी लोंगों में फैल रही है, लेकिन चिरचिटे  ( उल्टा लपा ) का पौधा उसमे भी लाभकारी है। चिरचिटे ( उल्टा लपा ) के पत्तों को पीसकर गर्म करकी आप गठिया की जगह पर बांध लें इससे आपको गठिया की सूजन और दर्द में लाभ होगा।

परहेज - आपको लाल मिर्च का सेवन बन्द करना होगा क्योंकि आयुर्वेद के अनुसार लाल मिर्च के खाने से ही ज्यादातर गठिया की बीमारी होती है। 




लकवा में भी है लाभदायक उल्टा लपा

एक ग्राम काली मिर्च के साथ चिरचिटे  ( उल्टा लपा ) की जड़ को दूध में पीस लें अब इस तैयार हुई औषधि को सुबह शाम नाक में टपकाने से लकवा ठीक हो जाता है।

परहेज - सुबह शाम की दवाई अलग तैयार करें एक ही दवाई दोनों समय इस्तेमाल न करें। पेट की सफाई का ध्यान रखें। क्योंकि लकवा की बीमारी में पेट का डाइजेशन विगड़ जाता है।


गुर्दे के दर्द को खत्म करे उल्टा लपा

चिरचिटे  ( उल्टा लपा ) की 5 से 10 ग्राम ताजी जड़ को पानी मे घोल कर पीने से गुर्दे के दर्द में लाभ मिलता है।

परहेज - जड़ को किसी भी लोहे, या पत्थर पर न पीसें इसे केवल लकड़ी के चाक पर ही पीसें









Tags

Top Post Ad

Below Post Ad