साल 2020 के शुरू होते ही न जाने कितनी आफत अभी तक आ चुकी हैं। पहले कोरोना, फिर चक्रवात, कहीं भूकंप, और तो और टिड्डी दल का भयंकर हमला इन सभी ने लोंगों का जीना मुश्किल कर रखा है। ऐसा लग रहा है 2020 में को शायद इन्हीं सब कामो के लिए बनाया गया है। 

File Image


इन सब के बीच एक नाम और जुड़ रहा है और वो है इटली का ये भूतिया गाँव इटली वासी हमेसा पानी मे डूबे रहने के कारण इस गांव को भूतिया कहते हैं। 


आइये जानते हैं क्या है इसके पीछे की वजह -


टस्कनी के लुक्का प्रान्त में 1946 में एक झील और बांध बनाने बनाने के समय यह गांव पूरी तरह से पानी मे दुब गया था। ये पहला मौका नहीं है जब ये गांव पानी से बाहर आ रहा हो इससे पहले भी कई बार यहाँ का पानी निकलने के बाद इस गांव ने सूरज की रोशनी देखी है। आखरी बार इस बांध को 1994 में खाली किया गया था तब यह गांव पानी से बाहर आया था। 


अभी भी यह गांव अपनी सही स्थिति में है यहाँ बने हुए पत्थर के घर, पुल, कब्रिस्तान और एक चर्च अभी भी मौजूद हैं। यह गांव 34 मिलियन क्यूबिक मीटर पानी से अब 2020 में बाहर निकल रहा है। 
इससे पहले यह गांव 1958, 1974, 1983, 1994 में बाहर आ चुका है। 2020 के बाद यह गांव फिर से 27 साल बाद इस पानी से बाहर आएगा। 

In English -


As of the beginning of the year 2020, there are no problems yet. First the corona, then the cyclone, somewhere the earthquake, and then the fierce attack of the locust team has made it difficult for the people to live. It looks like in 2020, probably for all these things.

There is a name and linking among all of them and that is that this ghostly village of Italy is called this village because it is always submerged in water.

Let us know what is the reason behind this

The village was completely submerged in 1946 in Lukka province, Tuscany, when it built a lake and dam. This is not the first time when this village is coming out of water, even before this water has come out many times, this village has seen sunlight. The last time this dam was emptied in 1994 was when the village came out of the water.

The village is still in its proper condition, the stone houses, bridges, cemeteries and a church still exist here. The village is draining 34 million cubic meters of water now in 2020.
Earlier the village came out in 1958, 1974, 1983, 1994. After 2020, this village will come out of this water again after 27 years.